शम्मी कपूर ने की थी गुपचुप शादी, दूसरी पत्नी के सामने रखी थी बड़ी शर्त

मुम्बई। बॉलिवुड ऐक्टर शम्मी कपूर की आज जयंती है। 21 अक्टूबर 1931 को मुंबई में जन्मे शम्मी कपूर का नाम पहले शमशेर रखा गया था। शम्मी कपूर का ज्यादातर बचपन पेशावर में कपूर हवेली में बीता था, जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है। इसके साथ ही कोलकाता में भी कई सालों तक वह रहे। इसके बाद उन्होंने मुंबई में अपनी पढ़ाई पूरी की।  शम्मी कपूर सबसे पहले अपने पिता पृथ्वीराज कपूर की थिअटर कंपनी से जुड़े। साल 1953 में उनकी पहली फिल्म ‘जीवन ज्योति’ रिलीज हुई। शम्मी मिस्र की फेमस बेली डांसर के साथ रिलेशनशिप में थे, लेकिन जब वह वापस अपने देश लौट गईं तो दोनों का रिश्ता खत्म हो गया।

शम्मी कपूर इसके बाद फेमस ऐक्ट्रेस गीता बाली के नजदीक आए। दोनों का प्यार परवान चढ़ा और उन्होंने शादी का फैसला किया। हालांकि, कपूर परिवार इस रिश्ते के खिलाफ था। ऐसे में दोनों ने गुपचुप तरीके से मंदिर में शादी की। कहा जाता है कि इस दौरान उनके पास सिंदूर भी नहीं था ऐसे में शम्मी कपूर ने गीता बाली की लिपस्टिक से मांग भरी थी।  शादी कर यह जोड़ा शम्मी कपूर के घर पहुंचा। कुछ दिनों तक परिवार वाले नाराज रहे लेकिन बाद में उन्होंने भी इस विवाह को सहमति दे दी। शम्मी और गीता को दो बच्चे हुए। इस हैपी कपल की शादी को 10 साल ही हुए थे कि गीता बाली को चेचक हो गया और उनकी हालत इतनी बिड़गी कि साल 1965 में उनका देहांत हो गया।

गीता बाली को शम्मी बहुत प्यार करते थे। उनके निधन से वह डिप्रेशन में चले गए। उन्होंने खुद का ध्यान रखना छोड़ दिया। वह कई बार खाना तक नहीं खाते थे। साथ ही गम भूलने के लिए उन्होंने शराब का सहारा लिया। इस बीच उनकी ऐक्ट्रेस मुमताज से नजदीकियां बढ़ीं। शम्मी ने उन्हें प्रपोज कर दिया लेकिन 18 साल की मुमताज ने ऐसा करने से इंकार कर दिया। कहा जाता है कि मुमताज का करियर ग्राफ तेजी से चढ़ रहा था और शम्मी कपूर ने मुमताज को पहले ही बता दिया था कि शादी के बाद उन्हें ऐक्टिंग छोड़नी पड़ेगी, जो ऐक्ट्रेस को मंजूर नहीं था। प्रपोजल ठुकराए जाने के बाद शम्मी कपूर ने कसम खाई की वह किसी भी ऐक्ट्रेस से अब शादी नहीं करेंगे।

शम्मी दूसरी शादी करने को तैयार नहीं थे, लेकिन घरवालों ने उन्हें बच्चों का हवाला दिया। इसके बाद उनका रिश्ता गुजरात के भावनगर की पुरानी रॉयल फैमिली की नीला देवी से तय हुआ। शादी से पहले शम्मी ने यह शर्त रखी कि नीला कभी मां नहीं बनेंगी और उन्हें पहली पत्नी से हुए बच्चों का ध्यान रखना होगा। इस शर्त को मानने के बाद दोनों का विवाह हुआ।  साल 2011 में 7 अगस्त को शम्मी कपूर को गुर्दे की बीमारी के कारण भर्ती किया गया। उनकी हालत तेजी से बिगड़ी और उन्हें वेंटिलेटर सपॉर्ट दिया गया। 14 अगस्त 2011 को उनका इलाज के दौरान निधन हो गया।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top