वैश्विक संकेत तय करेंगे चाल, निवेशकों की रहेगी नजर

मुंबई। निवेशकों की नजर अगले सप्ताह वैश्विक संकेतों पर रहेगी, इसके अलावा डॉलर के खिलाफ रुपये की चाल तथा कच्चे तेल की कीमतों का स्तर भी नजर रहेगी। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआईज) और घरेलू संस्थागत निवेशकों (डीआईआईज) द्वारा किए गए निवेश पर निवेशक नजर बनाए रखेंगे। भारतीय शेयर बाजार गुरुवार को मुहर्रम के दिन बंद रहेंगे। विदेशी बाजारों में, जापान के व्यापार संतुलन के अगस्त के आंकड़े की घोषणा बुधवार (19 सितंबर) को की जाएगी। जुलाई में जापान का व्यापार घाटा रेकॉर्ड 231 अरब येन के स्तर तक जा पहुंचा था, जबकि पिछले साल जुलाई में जापान का 407 अरब डॉलर का व्यापार अधिशेष था। बैंक ऑफ जापान (बीओजे) ब्याज दरों पर अपने फैसले की घोषणा बुधवार (19 सतिंबर) को करेगी। अपनी जुलाई की बैठक में बीओजे दरों के बेहद कम स्तर पर रखने का फैसला किया था। इसकी दौरान नीति निर्माताओं ने अल्पकालिक ब्याज दरों को (-)0.1 फीसदी पर अपरिवर्तित रखा और 10 साल के सरकारी बांड का यील्ड लक्ष्य करीब 0 फीसदी रखा गया।
यूरो क्षेत्र के उपभोक्ताओं के आत्मविश्वास का सितंबर का आंकड़ा गुरुवार (20 सितंबर) को जारी किया जाएगा। यूरो क्षेत्र के उपभोक्ता आत्मविश्वास संकेतक अगस्त में 1.4 अंकों की गिरावट के साथ -1.9 पर रहा, जबकि इसके पिछले महीने यह -0.5 पर था। अमेरिका के वर्तमान घरों की बिक्री का अगस्त का आंकड़ा गुरुवार (20 सितंबर) को घोषित किया जाएगा। वहां, पहले से स्वामित्व वाली घरों की बिक्री में जुलाई में माह-दर-माह आधार पर 0.7 फीसदी की गिरावट दर्ज की, जिसमें कुल 53.7 करोड़ घरों की बिक्री हुई। जापान के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति का सितंबर का आंकड़ा शुक्रवार (21 सितंबर) को जारी किया जाएगा। जापान का उपभोक्ता मूल्य सूचकांक साल-दर-साल आधार पर जुलाई में बढ़कर 0.9 फीसदी रही थी, जबकि इसके पिछले महीने यह 0.7 फीसदी पर थी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top