हिरासत में लिया गया ट्रेन का ड्राइवर, लाइनमैन से भी पूछताछ

अमृतसर। दशहरे को मौके पर पंजाब के अमृतसर में रेलवे ट्रैक पर खड़े होकर रावण-दहन देख रहे लोगों पर ट्रेन दौड़ जाने से हुए दर्दनाक हादसे में 60 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है तो वहीं 70 से ज्यादा घायल हैं। इस मामले में अब ट्रेन के ड्राइवर को हिरासत में लिया गया है और उससे पूछताछ की गई है। इस हादसे में रेलवे ने भी अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि उन्हें आयोजन की सूचना नहीं थी और उनकी गलती नहीं है। जोड़ा फाटक क्षेत्र के लाइनमैन से भी रेलवे पुलिस पूछताछ कर रही है। पंजाब पुलिस के अधिकारियों के मुताबिक, शनिवार को ट्रेन के लोको पायलट (ड्राइवर) को लुधियाना स्टेशन पर हिरासत में ले लिया गया। पंजाब पुलिस और रेलवे पुलिस (जीआरपी) ने उससे अमृतसर में हुए हादसे को लेकर पूछताछ भी की है। बताया जा रहा है कि शुक्रवार को ड्राइवर ने स्टेशन मास्टर को हादसा होने की जानकारी दी थी।

सूत्रों के मुताबिक ड्राइवर का कहना है कि उसे ग्रीन सिग्नल मिला था, जिससे उसे लगा कि लाइन क्लियर है और ट्रैक पर खडे़ होकर दशहरा देख रहे सैकड़ों लोगों को बारे में उसे बिल्कुल जानकारी नहीं थी। रेल अधिकारियों का कहना है कि हादसे को लेकर ड्राइवर का बयान भी रिकॉर्ड किया जाएगा, जिससे इसकी वजह को बेहतर समझा जा सके। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि रावण दहन के बाद आतिशबाजी की आवाज में ट्रेन का हॉर्न लोगों को सुनाई नहीं दिया। जोड़ा फाटक क्षेत्र में तैनात लाइनमैन से भी रेलवे अधिकारी इस बारे में पूछताछ कर रहे हैं कि वह ड्राइवर को ट्रैक की स्थिति की जानकारी क्यों नहीं दे सका। फिलहाल मेला आयोजकों पर अभी कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है और मुख्य आयोजक कांग्रेस नेता सौरभ मदान फरार बताया जा रहा है। उत्तरी रेलवे के सीपीआरओ दीपक कुमार ने बताया, ‘अभी अमृतसर और मानावाला रेलवे सेक्शन पर रेल सेवाएं रोकी गई हैं। हम उसका रिव्यू करने के बाद ही परिचालन शुरू करेंगे।’ उन्होंने कहा, ‘ऐसा नहीं लगता कि लोको ड्राइवर की हादसे में गलती है। हादसे वाली जगह से ही ठीक दो मिनट पहले अमृतसर-हावड़ा मेल भी गुजरी थी।’ बता दें, हादसे के चलते 10 मेल एक्सप्रेस और 27 पैसेंजर ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top