राष्ट्रीय स्तर पर भारत की पहली महिला अंपायर बनने की ओर वृंदा राठी

मुंबई। भारतीय महिलाएं अब सिर्फ क्रिकेट खेलती ही नहीं हैं बल्कि वे अंपायरिंग में भी हाथ आजमा रही हैं। नवी मुंबई की 29 वर्षीय वृंदा राठी इन दिनों मुंबई के लोकल मैचों में इन दिनों अंपायरिंग करती नजर आ रही हैं। पेशे से फिटनस कोच राठी इन दिनों वीकेंड पर मुंबई में खेली जाने वाली लोकल क्रिकेट में अंपायरिंग करती नजर आती हैं। मुंबई में क्रिकेट खेल रहे किशोर खिलाड़ियों को फील्ड पर अभी महिला अंपायर्स की आदत नहीं है। इसलिए खिलाड़ी अकसर वृंदा को ‘मेडम’ की जगह ‘सर’ पुकार देते हैं। लेकिन यह कोई शॉर्ट हेयर रखने वाली वृंदा पर निगेटिव कॉमेंट नहीं है। ब्लैक पेंट और सफेद रंग की पूरी बाजू वाली शर्ट और सिर पर हैट पहने वृंदा का अंपायरिंग लुक इंटरनैशनल क्रिकेट में मशहूर अंपायर बिली बोडन से ज्यादा नहीं तो कुमार धर्मसेना से कम भी नहीं लगता। वृंदा राठी भी इस पर मुस्कुरा कर खेल को जारी रखती हैं।  बता दें राठी ने बीते महीने बीसीसीआई की अंपायरिंग के लिए होने वाली लेवल 2 परीक्षा पास की है। इससे पहले राठी मुंबई के लिए कई लोकल मैचों में बतौर स्कोरर भी अपनी सेवाएं दे चुकी हैं। राठी के अलावा चेन्नै की एन. जननी ने भी यह परीक्षा पास की है। जननी अब भारत की पहली महिला अंपायर हैं, जो नैशनल लेवल पर अंपायरिंग कर सकती हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top