युवी के 6 छक्कों से विराट के 10 हजार रनों तक, कामयाबी का माही कनेक्शन

नई दिल्ली। युवराज सिंह के एक ओवर की लगातार 6 गेंदों में 6 छक्के। सचिन तेंडुलकर का ग्वालियर में दोहरा शतक। रोहित शर्मा का ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगाया गया वनडे करियर का पहला दोहरा शतक। और अब विराट कोहली के वनडे में सबसे तेज 10 हजार रन। इन चारों में सबसे खास माही कनेक्शन है। दरअसल, जब भी ये रेकॉर्ड बने दूसरे छोर पर पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी बैटिंग कर रहे थे। उन्होंने अपने साथियों को रेकॉर्ड को बनाने के बाद जश्न मनाते सबसे करीब से देखा और सबसे पहले बधाई दी।

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने बुधवार को विंडीज के खिलाफ अपने नाम एक और रेकॉर्ड दर्ज कर लिया। कोहली वनडे इंटरनैशनल में सबसे कम पारियों में 10 हजार रन पूरे करने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। उन्होंने सचिन तेंडुलकर के 17 साल पुराने वर्ल्ड रेकॉर्ड को तोड़ दिया है। इस मैच से पहले विराट कोहली के नाम 212 मैचों की 204 पारियों में 9919 रन थे। उन्हें इस रेकॉर्ड तक पहुंचने के लिए 81 रनों की जरूरत थी। जब विराट ने यहां अपनी पारी का 81वां रन लिया तो दूसरे छोर पर एक बार फिर धोनी ही मौजूद थे। ऑलराउंडर युवराज सिंह ने डरबन में 19 सितंबर 2007 को खेले गए इस मैच में 16 गेंदों पर 58 रन की ताबड़तोड़ पारी के दौरान स्टुअर्ट ब्रॉड के ओवर में छह छक्के जड़े थे। युवराज ने 19वें ओवर में कुल 36 रन बटोरे थे। इस मैच में उन्होंने टी20 इंटरनैशनल में 12 गेंदों पर हाफ सेंचुरी भी लगाई थी जो टी20 इंटरनैशनल का रेकॉर्ड है। यह टी20 इंटरनैशनल में पहला और क्रिकेट में चौथा मौका था जब किसी बल्लेबाज ने एक ओवर की छह गेंदों पर लगातार छह छक्के लगाए हों। इन सभी रेकॉर्ड के साक्षी थे दूसरे छोर पर खड़े एमएस धोनी। सचिन तेंडुलकर वनडे इंटरनैशनल क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले पहले पुरुष क्रिकेटर हैं। उन्होंने साउथ अफ्रीका के खिलाफ आज 24 फरवरी, 2010 में ग्वालियर के रूप सिंह स्टेडियम में 147 गेंदों पर 200 रनों की पारी खेली थी। 200 रन बनाकर नाबाद रहे सचिन ने इस पारी में 147 गेंदों का सामना किया था। उन्होंने इस पारी में 25 चौके और 3 छक्के लगाए थे। यह संयोग ही था कि जब सचिन ने दोहरा शतक पूरा किया तो दूसरे छोर पर धोनी बैटिंग कर रहे थे। 2 नवंबर, 2013 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ रोहित शर्मा ने अपने वनडे करियर का पहला दोहरा शतक (209) रन मारा और भारत को 57 रनों से जीत मिली। इस मैच में उन्होंने 158 गेंदों में 12 चौके और रेकॉर्ड 16 छक्के जड़े थे। जब रोहित ने दोहरा शतक पूरा किया तो उन्हें सबसे पहले धोनी से ही बधाई मिली, क्योंकि वह यहां भी दूसरे छोर पर मौजूद थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top