गुरुग्राम गोलीकांड का खुलासा, गाड़ी के पास न मिलने पर टोका तो आगबबूला हुआ गनर

गुरुग्राम। गुरुग्राम में गनर के गोलीकांड के चार दिन बुधवार को पुलिस ने सामने आकर इस हत्याकांड की वजह का खुलासा किया। पुलिस के मुताबिक अडिशनल सेशंस जज कृष्णकांत शर्मा के गनर महिपाल ने महज गाड़ी के पास न रहने के लिए टोकने पर आवेश में आकर उनकी पत्नी रितु और बेटे ध्रुव को गोली मारी थी। बता दें कि गनर की गोली से घायल जज की पत्नी की मौत हो चुकी है, जबकि बेटा ध्रुव ब्रेन डेड है। पुलिस के मुताबिक महिपाल जुर्म कबूल कर चुका है। पुलिस ने कहा कि हालांकि वह अभी भी जज के परिवार की तारीफ कर रहा है।

देशभर में चर्चा का विषय बने इस गोलीकांड पर बुधवार को गुरुग्राम पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूरे मामले को सामने रखा। पुलिस ने बताया कि जज की पत्नी और बेटे जब शॉपिंग के बाद गाड़ी के पास पहुंचे, तो महिपाल वहां मौजूद नहीं था। जब वह आया तो उन्होंने महिपाल से गाड़ी की चाबी मांगी। उससे पूछा था कि आप इतनी देर से कहां गायब हैं, हमें सामान रखना है। गुरुग्राम पुलिस के मुताबिक इस पूछताछ से ही गरम दिमाग का महिपाल आगबबूला हो गया। उसने पहल फ्रंट सीट पर बैठे जज के बेटे ध्रुव पर अटैक किया। जज की पत्नी ने जब बीच-बचाव की कोशिश की, तो उसने उन पर भी अटैक कर दिया। पुलिस ने महिपाल के परिवार के इन आरोपों को खारिज किया कि जज का परिवार उसके ऊपर जरूरत से दबाव डालते थे। पुलिस ने कहा कि यह बात इसलिए ठीक नहीं है, क्यों पूछताछ के दौरान महिपाल अभी भी जज और उनके परिवार को खूब तारीफ कर रहा है। पुलिस के मुताबिक महिपाल ने पूछताछ में बताया कि जज के परिवार ने उन्हें कभी परेशान नहीं किया। पुलिस ने इस घटना के पीछे धर्म परिवर्तन जुड़े किसी मामले की बात होने से इनकार कर दिया। पुलिस ने महिपाल के परिवार के इन आरोपों को भी खारिज किया कि जज का परिवार उसके ऊपर जरूरत से दबाव डालते थे। पुलिस के मुताबिक महिपाल ने अपने आपको कई सारी पारिवारिक चीजों में उलझा रखा था, जिससे संभव है कि वह गरम मिजाज हो गया हो। पुलिस के मुताबिक महिपाल के रिश्तेदार उससे जब-तब ओला भी चलाने को दे दिया करते थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top