ओशिवरा पुलिस ने 6 घंटे में रिकॉर्ड किया विंता नंदा का स्टेटमेंट

मुम्बई। नाना पाटेकर पर तनुश्री के सेक्शुअल हैरसमेंट के आरोप के बाद फिल्ममेकर और राइटर विंता नंदा ने भी ऐसे ही आरोप लगाए। उन्होंने अपने आरोप में बताया कि 19 साल पहले ऐक्टर आलोक नाथ ने उनका यौन उत्पीड़न किया था। पिछले दिनों इस मामले में विंता ने ओशिवरा पुलिस स्टेशन में अपना बयान रिकॉर्ड करवाया है। ओशिवरा पुलिस थाने के एक अधिकारी ने कहा, ‘उन्होंने (विंता) ने पहले लिखित स्टेटमेंट दिया था। इस स्टेटमेंट में उनकी शिकायत को समझते हुए विस्तार से लिखा गया था। वह सुबह करीब 11:30 बजे पहुंचीं और इस काम में करीब 6 घंटे लग गए।’ इस मामले में फिलहाल कोई एफआईआर दर्ज नहीं किया गया है।
विंता नंदा ने अपने फेसबुक पोस्ट के जरिए 8 अक्टूबर को ऐक्टर का नाम लिए बगैर अपने साथ हुए सेक्शुअल हैरसमेंट की पूरी कहानी बताई थी। उन्होंने अपने इस पोस्ट में बताया था कि यह घटना साल 1990 में एक टीवी सीरियल की शूटिंग के दौरान की थी। ओशिवरा पुलिस स्टेशन के एक सूत्र ने बताया कि विंता का स्टेटमेंट ठीक वैसा ही है जैसा उन्होंने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा था। एक अधिकारी ने बताया, ‘विंता का स्टेटमेंट एक पुलिस इंस्पेक्टर ने एक महिला अधिकारी की मौजूदगी में रिकॉर्ड किया है। सोशल मीडिया का पोस्ट उनके आरोपों के बेसिक आउटलाइन की तरह है। जो स्टेटमेंट हमने तैयार किया है, उसमें शान के 5:30 बज गए, जिसमें सारी चीजें विस्तार से लिखी गई हैं।’ जब विंता से इस बारे पूछा गया तो उन्होंने इस खबर को कन्फर्म करते हुए कहा कि पुलिस ऑफिसर ने उनके स्टेटमेंट को रिकॉर्ड कर लिया है। मुझसे कहा गया है कि इस मुद्दे पर अब मैं किसी तरह का कॉमेंट न करूं।’
विंता नंदा ने एक फेसबुक पोस्ट के जरिए आलोक नाथ पर रेप का आरोप लगाया है। इसमें उन्होंने लिखा था, ‘एक बार मुझे इस शख्स के घर एक पार्टी में बुलाया गया। उसकी वाइफ (जोकि मेरी खास दोस्त थी) शहर से बाहर थी। हम सभी दोस्तों का मिलना आम था, तो ऐसा कुछ हमने सोचा भी नहीं, लेकिन जैसे ही शाम होने लगी, मेरे ड्रिंक्स में कुछ मिला दिया गया और मुझे अजीब सा महसूस होने लगा। रात 2 बजे मैं उनके घर से निकली। किसी ने मुझे ड्रॉप करने के लिए नहीं कहा। मुझे महसूस होने लगा कि यहां ज्यादा देर तक रहना सही नहीं है। मैंने खाली सड़कों पर अकेले ही पैदल चलना शुरू कर दिया, जबकि मेरा घर दूर था…और फिर बीच रास्ते उन्होंने मेरा रास्ता रोक लिया।’ ‘वह अपनी गाड़ी चला रहे थे और गाड़ी रोककर मुझे मेरे घर ड्रॉप करने के लिए कहा। मैं विश्वास करके गाड़ी में बैठ गई। इसके बाद मुझे हल्का-हल्का याद है। मुझे याद है कि और ज्यादा शराब मेरे मुंह में डाली गई और काफी हिंसा की गई। अगली सुबह मैं जब उठी तो मुझे काफी दर्द हो रहा था। मेरा सिर्फ रेप ही नहीं किया गया था बल्कि मुझे मेरे घर ले जाकर और नृशंस व्यवहार किया गया। मैं अपने बिस्तर से उठ नहीं पाई। मैंने अपने कुछ दोस्तों को इस बारे में बताया, लेकिन सभी ने मुझे इसे भूलने और आगे बढ़ने की सलाह दी।’ बता दें कि, आलोक नाथ विंता नंदा के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करते हुए खुद पर लगे यौन शोषण व रेप के आरोपों से साफ इनकार कर चुके हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top