रेल राज्य मंत्री ने बताया, ड्राइवर को पहले क्यों नहीं दिखी भीड़

नई दिल्ली। दशहरे पर रावण दहन के समय हुएअमृतसर में हुए रेल हादसे में मृतकों की संख्या 61 हो गई है। इस मामले में ट्रेन के ड्राइवर को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई है। लोग पटरियों पर खड़े होकर रावन दहन देख रहे थे तभी तेज रफ्तार ट्रेन वहां से गुजरी और मृतकों को भागने का मौका भी नहीं मिल पाया। इस मामले में रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने रेलवे की तरफ से सफाई दी है। ट्रेन के ड्राइवर ने पूछताछ के दौरान बताया है कि सिग्नल ग्रीन था और इस वजह से उन्हें अंदाजा नहीं था कि पटरी पर इतने लोग खड़े हैं। रेल राज्य मंत्री ने कहा कि जहां पर यह घटना हुई वहां रेलवे ट्रैक मोड़ पर है। ऐसे में ड्राइवर को पहले से ही भीड़ को देख लेना संभव ही नहीं था। यह पूछने पर क्या इस मामले की जांच होगी? सिन्हा ने कहा कि किस बात की हमें जांच करनी चाहिए?

मनोज सिन्हा ने कहा कि इस मामले में रेलवे की चूक नहीं है। उन्होंने कहा, ‘ रेलवे को ऐसे किसी आयोजन की जानकारी नहीं दी गई थी। लोगों को भविष्य में ट्रैक के नजदीक ऐसे आयोजनों को नहीं करना चाहिए। ड्राइवरों को इस बात के स्पष्ट निर्देश हैं कि कहां गाड़ी धीरे करनी है। हमें किस चीज की जांच का आदेश देना चाहिए? लोगों को लोगों को इस मुद्दे पर राजनीति नहीं करनी चाहिए।’ रेल राज्य मंत्री ने कहा कि अमृतसर हादसे के बारे में पीएमओ को भी जानकारी दी गई है। पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी अमृतसर पहुंचकर हादसे की जानकारी ली है। राज्य सरकार की तरफ से भी इस मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। ट्रेन हादसे की वजह से अमृतसर-मानावाला सेक्शन पर अभी ट्रेन सेवाएं ठप हैं। उत्तर रेलवे के सीपीआरओ दीपक कुमार ने कहा है कि दोपहर में बैठक के बाद सेवाएं बहाल करने पर होगा फैसला लिया जाएगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top