सरकार के इशारे पर की गई स्वामी सानंद की हत्या

October 12, 2018

देहरादून मातृ सदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती ने प्रोफेसर जी.डी. अग्रवाल (स्वामी सानंद) की मौत को सरकार के इशारे पर की गई हत्या करार दिया है। उनका आरोप है कि हरिद्वार जिला प्रशासन, एम्स के डायरेक्टर और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी स्वामी सानंद की हत्या के लिए जिम्मेदार हैं। उन्होंने इन सभी जिम्मेदार लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करने और उन्हें गिरफ्तार करने की मांग की है। स्वामी शिवानंद सरस्वती ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यह बताना चाहिए कि मां गंगा ने उन्हें क्या इसीलिए बुलाया था कि वे गंगा भक्तों का बलिदान लेते रहें। गुरुवार दोपहर बाद जैसे ही स्वामी सानंद की मौत की खबर मिली तो मातृ सदन परिसर में शोक छा गया।

मातृ सदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती ने आरोप लगाया कि स्वामी सानंद की मौत नहीं हुई है, बल्कि उनकी सुनियोजित हत्या की गई है। स्वामी सानंद को बुधवार दोपहर जब प्रशासन ने जबरन उठाकर एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया तो वह पूरी तरह ठीक थे, फिर आखिर ऐसी क्या बात हुई कि अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई और उनकी मौत भी हो गई। स्वामी शिवानंद ने कहा कि उन्होंने तो पहले ही आशंका जताई थी कि स्वामी सानंद की हत्या के लिए ही उन्हें यहां से उठाकर एम्स ले जाया जा रहा है। एम्स में उनका जीवन वैसे भी सुरक्षित नहीं रहना था। उन्होंने आरोप लगाया कि इस हत्या कि पीछे खनन माफिया और उन्हें संरक्षण देने वाले अधिकारी भी जिम्मेदार हैं। खनन माफिया के इशारे पर ही पहले मातृ सदन के ब्रह्मचारी स्वामी निगमानंद सरस्वती की हत्या की गई और अब स्वामी सानंद की भी हत्या कर दी गई है। स्वामी शिवानंद ने कहा कि अगर बीजेपी सरकार बलिदान ही चाहती है तो मातृ सदन कितने भी बलिदान देने से पीछे नहीं हटेगा। उन्होंने कहा कि गंगा के हितों की रक्षा के लिए मातृ सदन अपना सतत अभियान जारी रखेगा।