यूएस-चीन के ‘झगड़े’ से भारतीय किसानों का हो सकता है फायदा

September 21, 2018

नई दिल्ली अमेरिका और चीन के बीच चल रही ट्रेड वॉर के बीच भारतीय किसानों को आनेवाले वक्त में फायदा मिल सकता है। यह फायदा सोयाबीन और सफेद सरसों पैदा करनेवाने किसानों को होगा। दरअसल, चीन ने सात साल पहले खराब क्वॉलिटी का हवाला देकर भारतीय सफेद सरसों खरीदने पर बैन लगा दिया था। यह सरसों पशुओं के लिए प्रोटीन का सॉर्स होती है। अब बुधवार को चीन में मौजूद भारतीय दूतावास ने उस बैन को हटाने की मांग उठाई है। इतना ही नहीं भारत ट्रेड वॉर का फायदा उठाने के लिए चीन को सोयाबीन का आयात भी बढ़ाने पर विचार कर रहा है। चीन अबतक अमेरिका से सोयाबीन लेता रहा है, जिसमें ट्रेड वॉर के बाद कटौती आई है। फिलहाल भारत में सफेद सरसों और सोयाबीन का उत्पादन भले कम हो रहा है, लेकिन अगर चीन बैन हटा देता है तो यह किसानों के अच्छा मौका साबित होगा। बता दें कि 2015-16 में भारत में सफेद सरसों का उत्पादन 6,820 किलो टन था। इसका ज्यादा उत्पादन राजस्थान, हरियाणा, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में होता है। वहीं सोयाबीन के उत्पादन की बात करें तो यह 2016-17 में 13 मिलियन टन था। मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान इसके बड़े उत्पादक हैं। हालांकि, बारिश की कमी और फसल खराब होने की वजह से इसके उत्पादन में कमी आ रही है।