59 Views

भारत के साथ व्यापार वार्ता रोके जाने पर ट्रूडो ने साधी चुप्पी

ओटावा,०९ सितंबर। प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो ने यह बताने से इनकार कर दिया कि कैनेडा ने भारत के साथ व्यापार वार्ता क्यों रोक दी, केवल इतना कहा कि बातचीत “लंबी और जटिल” है।
शुक्रवार को सिंगापुर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ट्रूडो से दो बार वार्ता के रुकने का कारण पूछा गया।
ट्रूडो ने कहा, “हम जानते हैं कि मुक्त व्यापार को लेकर बातचीत लंबी और जटिल है और मैं इससे ज्यादा कुछ नहीं कहूंगा।”
ट्रूडो की टिप्पणी व्यापार मंत्री मैरी एनजी के उस बयान के कुछ ही दिन बाद आई है जिसमें उन्होंने कहा था कि कैनेडा इस समय इस बात का जायजा ले रहा है कि चीजें कहां हैं। ़
कैनेडा में भारत के उच्चायुक्त संजय कुमार वर्मा ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि ओटावा ने पिछले महीने व्यापार वार्ता से विराम मांगा था। उन्होंने इस बारे में विस्तार से नहीं बताया कि ऐसा क्यों है।
आपको बता दें कि दोनों देश २०१० से मुक्त व्यापार समझौते पर बातचीत कर रहे हैं। २०१७ में इस बातचीत में रुकावट आ गई थी जिसे पिछले वर्ष उन्हें प्रारंभ किया गया है। दोनों देशों के बीच कृषि, बौद्धिक संपदा और निवेश सहित कई मुद्दों पर असहमति के साथ बातचीत धीमी और कठिन रही है।
बातचीत में रुकावट ऐसे समय आई है जब कैनेडा भारत के साथ अपने व्यापार को बढ़ावा देना चाहता है। भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था है, और कैनेडा संयुक्त राज्य अमेरिका से दूर अपने व्यापार में विविधता लाना चाहता है।
ट्रूडो ने कहा कि वह अभी भी भारत के साथ मुक्त व्यापार समझौते पर पहुंचने के लिए प्रतिबद्ध हैं, लेकिन उन्होंने यह नहीं बताया कि बातचीत कब फिर से शुरू होगी।
ट्रूडो निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार मेजबान भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के साथ आधिकारिक द्विपक्षीय बैठक के बिना शुक्रवार को भारत पहुंचेंगे। कैनेडा-भारत संबंधों के बारे में पूछे जाने पर और क्या मोदी के साथ बैठक होगी, ट्रूडो ने कहा कि घटनाओं पर अभी भी काम चल रहा है।

Scroll to Top