आयु, धन, संपत्ति प्राप्ति हेतु शरद पूर्णिमा पर करें मां लक्ष्मी का आह्वान

October 19, 2021

नई दिल्ली, 19 अक्टूबर। आज शरद पूर्णिमा है। आश्विन माह की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा या कोजागरी पूर्णिमा के नाम से भी पुकारा जाता हैं। सनातन धर्म में शरद पूर्णिमा का विशेष महत्व है। मान्यता है कि इस दिन मां लक्ष्मी साक्षात बैकुंठधाम से पृथ्वी पर आगमन करती हैं। मान्यता के अनुसार इसी दिन से भारत भूमि पर शरद ऋतु का आगमन हो जाता है। धर्म के अनुसार शरद पूर्णिमा की रात्रि में भगवान श्री कृष्ण ने वृंदावन में राधा और गोपियों के साथ महारास रचाया था। यदि आप आयु, धन, संपत्ति प्राप्त करने के लिए शरद पूर्णिमा के दिन श्रद्धा के साथ मां लक्ष्मी की पूजा करें, तो माता प्रसन्न होकर आपको मनवांछित फल भी दे सकती हैं।
मान्यता है कि शरद पूर्णिमा का व्रत करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं शीघ्र पूर्ण हो जाती है। शास्त्रों में इस पूर्णिमा को रास पूर्णिमा भी कहा जाता है क्योंकि इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने राधा और गोपियों के साथ रास लीला रची थी। यह व्रत व्यक्ति को रोगों से मुक्ति दिलाता है।
शरद पूर्णिमा के दिन व्रती सुबह-सवेरे स्नान ध्यान कर स्वच्छ वस्त्र धारण कर लें। अब भगवान की प्रतिमा के सामने धूप, दीप जलाकर श्रद्धा पूर्वक पूजन करें और पूरे दिन उपवास रखें। शाम के समय मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना कर चंदन, दीप, सुगंध, फूल अर्पित करें। रात्रि में भगवान चंद्रमा का दर्शन कर उनका पूजन करें और फिर अपना उपवास खोलें। रात्रि में भजन कीर्तन कर प्रसाद का वितरण करें।