31 Views

अहमदाबाद के एक व्यक्ति पर अमेरिकी से धोखाधड़ी का मामला दर्ज, लाखों डॉलर की क्रिप्टो करेंसी बरामद

नई दिल्ली ,२३ अक्टूबर ।केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने अहमदाबाद निवासी रामावत शैशव उर्फ जेम्स कार्लसन के ख़िलाफ़ अमेरिकी नागरिक से धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर तलाशी ली और उसके क्रिप्टो वॉलेट से लाखों अमेरिकी डॉलर बरामद किए। सीबीआई के एक प्रवक्ता ने बताया कि अहमदाबाद में शैशव के परिसरों पर तलाशी ली गई, जिसमें क्रिप्टो वॉलेट्स और आपत्तिजनक सामग्री से ९.३ लाख अमेरिकी डॉलर मूल्य की क्रिप्टो मुद्राएं बिटकॉइन, एथेरियम, रिप्पल, यूएसडीटी आदि की बरामदगी और जब्ती हुई।
अधिकारी ने कहा कि तलाशी के दौरान अहमदाबाद के रहने वाले दो अन्य व्यक्तियों की संलिप्तता भी सामने आई है।
इसलिए, उक्त व्यक्तियों के परिसरों पर भी तलाशी ली गई, जिसके परिणामस्वरूप मोबाइल फोन, आपत्तिजनक सामग्री वाले लैपटॉप आदि बरामद हुए।
एजेंसी ने कहा कि यह आरोप लगाया गया था कि उक्त शैशव ने जेम्स कार्लसन के छद्म नाम से एक अमेरिकी नागरिक से फोन पर संपर्क किया, खुद को एक मल्टी-नेशनल कंपनी के धोखाधड़ी विभाग से बताया और पीड़ित को गलत तरीके से सूचित किया कि कोई पीड़ित के खाते का उपयोग करके एक कंप्यूटर का ऑर्डर देने की कोशिश कर रहा है। अधिकारी ने कहा, यह भी आरोप लगाया गया कि आरोपी ने पीड़ित को गुमराह भी किया कि चार अलग-अलग प्रांतों में लोगों ने उक्त एमएनसी के खाते खोलने के लिए पीड़ित के सोशल सिक्योरिटी नंबर का इस्तेमाल किया था।
सीबीआई ने यह भी आरोप लगाया कि शैशव ने पीड़ित को अपने बैंक खातों से नकदी निकालने और रॉकिटकॉइन एटीएम वॉलेट में बिटकॉइन में जमा करने के लिए प्रेरित किया और एक क्यूआर कोड साझा किया और उसे गलत जानकारी दी कि यह पीड़ित के लिए अमेरिकी ट्रेजरी द्वारा खोला गया खाता था।
एजेंसी ने कहा, आरोपी ने पीड़ित का विश्वास हासिल करने के लिए २० सितंबर २०२२ को कथित तौर पर फेडरल बिजनेस कमिशन, अमेरिका द्वारा जारी एक फर्जी पत्र भी ईमेल किया। पीड़ित ने पिछले साल ३० अगस्त से ९ सितंबर की अवधि के दौरान अलग-अलग तारीखों पर अपने बैंक खातों से १३०,००० अमेरिकी डॉलर निकाले और उसे आरोपी द्वारा दिए गए बिटकॉइन एड्रेस पर जमा कर दिया।
अधिकारी ने कहा, इसके बाद, आरोपी द्वारा धोखाधड़ी से उसका दुरुपयोग किया गया, जिससे पीड़ित को १३०,००० डॉलर का नुकसान हुआ। ये इनपुट अमेरिका के फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन से प्राप्त हुए थे।

Scroll to Top