43 Views

ऑस्ट्रेलिया छठी बार विश्व चैंपियन बना, ट्रेविस हैड ने तोड़ा भारत का सपना

अहमदाबाद,२० नवंबर।रविवार को खेले गए विश्व कप फाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को हराकर छठी बार विश्व क्रिकेट का सिरमौर होने पर मोहर लगाई। पूरे टूर्नामेंट में बेहतर प्रदर्शन करने वाली भारतीय टीम आखिरकार फाइनल में बिखर गई और १४० करोड़ भारतवासियों का सपना टूट गया।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खिताबी जंग एकतरफा साबित हुई। ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीता और पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। रोहित शर्मा ने टूर्नामेंट के बाकी मैचों की तरह फाइनल में भी तेज शुरुआत दिलाई और ४७ रन बनाकर आउट हुए। रोहित की तेज पारी की बदौलत भारत ने पहले १० ओवर में ८० रन बनाए लेकिन उसके बाद रनों का मानों अकाल ही पड़ गया। विराट और केएल राहुल को छोड़कर कोई भी विकेट पर नहीं टिक सका और भारतीय बैटर ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजी के आगे असहाय नजर आए।
बल्लेबाजी में ऑस्ट्रेलिया ने पहले ही ओवर में १५ रन लेकर दमदार शुरुआत की। इसके बाद जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी ने ३ अहम बल्लेबाजों का विकेट लेकर कंगारू टीम की सांसे अटका दी थी। बुमराह ने मार्श और स्मिथ का शिकार किया जबकि शमी ने वॉर्नर को पवेलियन का रास्ता दिखा दिया। लेकिन ट्रेविस हेड भारत और ट्रॉफी के सामने दीवार बनकर खड़े रहे। उन्होंने १२० गेंद में १३७ रन की मैच विनिंग पारी को अंजाम दिया। दूसरे छोर पर मार्नस लाबुशेन ने सूझ-बूझ भरी पारी से टीम इंडिया को मुश्किल में डाल दिया। दोनों बल्लेबाजों के सामने बुमराह, शमी और जडेजा से लेकर भारत की सभी गेंदबाजी पैंतरे विफल नजर आए।
जिसके चलते ऑस्ट्रेलिया की टीम ने २४१ रन के लक्ष्य को आसानी से हासिल कर लिया और वर्ल्ड कप में नया इतिहास लिखा। कंगारू टीम ने भारत के विजयरथ को रोक छठी ट्रॉफी अपने नाम की। फाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया ने ६ विकेट से मुकाबले को जीता। कंगारू टीम ने इसी अंदाज में साल २००३ वर्ल्ड कप फाइनल में भारत को मात दी थी।

Scroll to Top