77 साल के बुजुर्ग ने दोस्त की हत्या का राज़ छुपाने के लिए किया पत्नी का मर्डर

गुड़गांव। रिटायर्ड ब्रिगेडियर 50 लाख रुपये लेकर डीएलएफ फेज-2 थाना पहुंचे तो डबल मर्डर की वारदात का खुलासा हुआ। ब्रिगेडियर ने बताया कि उनके दोस्त हरनेक सिंह ढिल्लो (77) ने 16 अक्टूबर को ये रुपये उनके घर रख गया था। पुलिस ने तुरंत डीएलएफ फेज-2 में पत्नी गुरमेल कौर (72) की हत्या कर खुद आत्महत्या का प्रयास करने वाले बुजुर्ग हरनेक सिंह को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने अपने दोस्त जसकरण की हत्या भी कबूल कर ली। जसकरण की हत्या का राज पत्नी गुरमेल कौर कहीं खोल न दे, इस लिए ही पत्नी की हत्या कर फर्जी स्यूसाइड नोट तैयार कर मामला घुमाने का प्रयास किया। डीएलएफ फेज-2 एरिया में 20 अक्टूबर को यह मामला सामने आया था। पंजाब के जालंधर से रुपिंदर ने पुलिस को सूचना दी कि उसके चाचा-चाची आत्महत्या कर रहे हैं। पुलिस डीएलएफ फेज-2 जे ब्लॉक के मकान में तीसरी मंजिल पर पहुंची तो महिला गुरमेल कौर (74) मृत पड़ी थी, जबकि उसके पति हरनेक सिंह की हाथ की नसें कटी हुई थी। बुजुर्ग को तुरंत हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया। मौके से स्यूसाइड नोट भी मिला, जिसमें बुजुर्ग ने रुपयों के लेन-देन के चलते पत्नी के साथ आत्महत्या का जिक्र किया था। अपनी प्रॉपर्टी भी बचों में बांटने की बात उसमें लिखी गई थी।
बुजुर्ग ने सूइसाइड नोट में अपने दोस्त जसकरण का जिक्र किया था। पुलिस जांच में सामने आया कि जसकरण (51) 14 अक्टूबर से लापता था। 16 अक्टूबर को जसकरण की पत्नी मंजीत कौर ने सेक्टर-29 थाने में एफआईआर दर्ज कराई थी। उसने संदेह भी हरनेक सिंह पर किया था, जिसके चलते डीएलएफ सेक्टर-29 थाना पुलिस ने हरनेक से पूछताछ भी की थी। ब्रिगेडियर ने 24 अक्टूबर को डीएलएफ फेज-2 थाना पहुंच 50 लाख रुपये दिए और बताया कि हरनेक ने 16 अक्टूबर को ये रुपये उनके घर लाकर रख दिए थे। पुलिस को तुरंत शक हुआ और हरनेक सिंह को अरेस्ट कर कोर्ट में पेश कर दो दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ की गई। तब उसने अपने दोस्त जसकरण की हत्या की वारदात कबूल की। उसने खुलासा किया कि जसकरण से करीब 60 लाख रुपये लिए थे। वो रुपये वापस मांग रहा था इसलिए वारदात कर दी। 14 अक्टूबर को गुरमेल कौर किसी काम से घर से बाहर गई हुई थी। इस दौरान हरनेक ने जसकरण को कॉल कर अपने घर बुलाया। इसी दौरान झगड़ा कर चाकू से जसकरण की हत्या कर दी। शव को चाकू से ही काटकर कई टुकड़े कर पॉलीथीन में डाल दिया। अपनी सेंट्रो कार से शव के टुकड़े लेकर पंजाब जाकर नहर में फेंक आया।
मकान से झगड़े की आवाज सुनकर 14 अक्टूबर को पड़ोसियों ने गुरमेल कौर को कॉल कर इस बारे बताया। वह घर लौटी तो अंदर खून पड़ा देखा। जसकरण की हत्या के चलते उसने पति के साथ काफी झगड़ा किया, लेकिन उसने किसी तरह पत्नी को चुप करा दिया। वारदात के बाद गुरमेल अपने पति से बात नहीं कर रही थी। इससे उसे शक था कि पत्नी कहीं राज उगल न दे। इसलिए पत्नी की भी हत्या कर मामले आत्महत्या का रूप देना चाहा। करण गोयल एसीपी डीएलएफ फेज-2 थाना पुलिस ने अपनी पूछताछ कर शुक्रवार को हरनेक सिंह को कोर्ट में पेश कर दिया। वहां से अब डीएलएफ सेक्टर-29 थाना पुलिस ने उन्हें रिमांड पर लिया है। वहां का अपहरण का केस अब हत्या में बदल गया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top