दिल्ली में पेट्रोल पंप बंद, डीटीसी बसों के पहिये थमे

नई दिल्ली। तीन दिन की छुट्टी के बाद आज दिल्लीवालों को भारी परेशानी से जूझना पड़ रहा है। ऑटो और टैक्सी यूनियन की हड़ताल के चलते जहां लोगों को मेट्रो के भरोसे हैं, वहीं पेट्रोल पंप बंद होने के कारण अपने वाहनों को इस्तेमाल करने में कुछ परेशानी जरूर उठानी पड़ रही है। डीटीसी के कर्मचारियों ने भी विविध मांगों को लेकर धरना-प्रदर्शन की घोषणा की है और कइयों ने छुट्टी पर रहने का निर्णय किया है। इससे सड़कों पर कम बसें उतरेंगी। ऐसे में हड़ताल और प्रदर्शन का सीधा असर दिल्ली की जनता पर पड़ रहा है। हड़ताल की पूर्व घोषणा के बावजूद लोगों की सुविधा के लिए वैकल्पिक तौर पर कोई इंतजाम नहीं किया गया है। पेट्रोल और डीजल पर वैट कम करने की मांग पर दिल्ली सरकार से कोई जवाब नहीं मिलने पर पेट्रोल पंप मालिकों ने  24 घंटे के लिए पंप बंद करने की घोषणा की है।

दिल्ली में चल रही पेट्रोल पंपों की हड़ताल को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी प्रायोजित बताया है। केजरीवाल ने अपने ट्वीट में लिखा, भाजपा ने पेट्रोल वालों को धमकी दी है कि जो आज हड़ताल नहीं करेगा, उस पर इंकम टैक्स की रेड कराई जाएगी तेल कंपनियों ने भी धमकी दी है कि जो पेट्रोल पम्प हड़ताल नहीं करेगा, उसके खिलाफ सख्त ऐक्शन होगा भाजपा वाले दिल्ली वालों को तंग करना बंद करें। ये दिन दहाड़े गुंडागर्दी बंद करें। उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा, ‘पिछले चार सालों में पेट्रोल पर अनाप शनाप टैक्स मोदी जी ने लगाया है, हमने नहीं लगाया। मोदी जी टैक्स कम करें और जनता को राहत दें। हम माँग करते हैं की पेट्रोल डीज़ल को जीएसटी के दायरे में लाया जाए। केंद्र सरकार पेट्रोल डीज़ल को जीएसटी में क्यों नहीं ला रही?’ उन्होंने एक ट्वीट करते हुए लिखा, ‘पेट्रोल पंप मालिकों ने उन्हें निजी तौर पर बताया है कि यह हड़ताल बीजेपी प्रायोजित है, जिसका पेट्रोल कंपनियां पूरी तरह समर्थन कर रही हैं। यहां तक कि पेट्रोल पंप मालिकों पर यह हड़ताल थोपी जा रही है। जनता बीजेपी को उन्हें परेशानी देकर गंदी राजनीति करने के लिए चुनावों में करारा जवाब देगी।’ वाहन चालकों को सीएनजी तक के लिए भारी परेशानी हो सकती है। दिल्ली मेट्रो के अधिकारियों की मानें तो अभी तक उन्हें इस बारे में कोई सूचना नहीं मिली है। जबकि डीटीसी बसों के न चलने से सीधा भार मेट्रो पर पड़ेगा। हालांकि मेट्रो अधिकारियों का कहना है कि ऐसी कोई स्थिति देखने को मिलती है तो तत्काल ठोस कदम उठाए जाएंगे। दिल्ली टैक्सी टूरिस्ट ट्रांसपोर्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय सम्राट ने कहा कि हड़ताल में काली-पीली टैक्सी, टूरिस्ट टैक्सी और ओला-उबर कंपनियों के चालक भी शामिल होंगेे। प्रदर्शन में ओला-उबर कंपनियों के खिलाफ भी आवाज उठाई जाएगी, जो चालकों को गुलाम बनाकर काम करवा रही हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top