कन्हैया और जिग्नेश को आज कांग्रेस की सदस्यता दिलाएंगे राहुल गांधी

September 28, 2021

नई दिल्ली,28 सितंबर। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता कन्हैया कुमार आज कांग्रेस में शामिल होंगे। उनके साथ गुजरात के दलित कार्यकर्ता और विधायक जिग्नेश मेवानी के भी कांग्रेस में आने की चर्चा है। दिल्ली में होने वाले कार्यक्रम में इन्हें राहुल गांधी कांग्रेस की सदस्यता दिलवाएंगे और इस दौरान पाटीदार नेता हार्दिक पटेल भी मौजूद रहेंगे। माना जा रहा है कि कई राज्यों में बागियों से परेशान कांग्रेस अब युवाओं पर दांव खेल रही है। कन्हैया के कांग्रेस जॉइन करने की अटकलें पिछले काफी समय से चल रही थीं। पिछले हफ्ते सीपीआई महासचिव डी. राजा ने उनसे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अफवाहों को खारिज करने को कहा था। दिल्ली में पार्टी के दफ्तर में केंद्रीय नेता उनका इंतजार कर रहे थे, पर कन्हैया नहीं पहुंचे और पार्टी नेताओं के मैसेज और फोन कॉल्स का जवाब भी नहीं दिया। कन्हैया और जिग्नेश ने पिछले दिनों राहुल गांधी से मुलाकात भी की थी। कन्हैया कुमार 2016 में जेएनयू में हुई देश विरोधी नारेबाजी से पहली बार चर्चा में आए थे। उनका एक वीडियो सामने आया था, जिसमें वे आजादी-आजादी के नारे लगा रहे थे। इस विवाद के वक्त कन्हैया कुमार जेएनयू में छात्रसंघ अध्यक्ष थे। फिर 2019 में लोकसभा चुनाव से पहले वे सीपीआई में शामिल हो गए थे। उन्होंने बेगूसराय से लोकसभा चुनाव लड़ा, लेकिन बीजेपी के गिरिराज सिंह से हार गए। कन्हैया के आने से कांग्रेस को बिहार में फायदा हो सकता है। बिहार में जदयू और राजद जैसी क्षेत्रीय पार्टियों की बात करें या बीजेपी-कांग्रेस जैसी राष्ट्रीय पार्टियों की, सभी पार्टियों में दूसरी लाइन के नेता आगे आ रहे हैं। राजद में तो तेजस्वी ने कमान संभाल ही ली है। लोक जनशक्ति पार्टी का नेतृत्व चिराग पासवान के पास है। जदयू के नीतीश पहले ही कह चुके हैं कि अगला चुनाव नहीं लड़ेंगे। बीजेपी ने भी सुशील कुमार मोदी को मुख्य जिम्मेदारी से हटाकर संकेत साफ कर रखे हैं। ऐसे में कांग्रेस के पास कोई युवा नेता नहीं है, जो लंबी दूरी का घोड़ा बन सके। इसलिए उसे कन्हैया में संभावनाएं नजर आ रही हैं, जो लंबे समय में राज्य स्तर पर पार्टी को मजबूती दे सकते हैं। जिग्नेश मेवानी गुजरात में कई आंदोलनों में लोगों को इकट्ठा कर दलित राजनीति के युवा चेहरे के तौर पर उभरकर सामने आए हैं। वे गुजरात के वडगाम से निर्दलीय विधायक हैं। माना जाता है कि 2017 के विधानसभा चुनाव में जिग्नेश की जीत में कांग्रेस की भूमिका थी, क्योंकि कांग्रेस ने उनके खिलाफ कोई उम्मीदवार नहीं उतारा था। अब कांग्रेस जिग्नेश और पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के जरिए गुजरात में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में बढ़त हासिल करने की कोशिश करेगी।