प्रधानमंत्री मोदी ने की दो प्रमुख योजनाओं के दूसरे चरण की शुरुआत

October 1, 2021

स्वच्छ भारत मिशन में नई पीढ़ी के योगदान को सराहा

नई दिल्ली, 1 अक्टूबर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को स्वच्छ भारत मिशन अर्बन 2.0 और अमृत 2.0 प्रोग्राम का शुभारंभ किया । वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मोदी ने कहा कि स्वच्छता अभियान को मजबूती देने का बीड़ा अब नई पीढ़ी ने उठाया है। आज बच्चे चॉकलेट के रैपर फेंकते नहीं बल्कि जेब में रख लेते हैं और गंदगी फैलाने पर बड़ों को भी टोकते हैं।
मोदी ने कहा कि साफ-सफाई के मामले में युवा पहल कर रहे हैं। यही नहीं कुछ युवा उद्यमी नवाचार के माध्यम से कूड़े कचरे से भी कमाई कर रहे हैं तो कई जागरुकता फैला रहे हैं। सूखे और गीले कचरे को अलग करने के लिए लोग जागरुक हो गए हैं। स्वच्छ भारत मिशन से दूसरे फेज में शहरों से कूड़े के पहाड़ पूरी तरह हटाए जाएंगे। मोदी ने केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी से कहा कि ऐसा ही एक पहाड़ लंबे समय से दिल्ली में भी है, यह भी हटने का इंतजार कर रहा है।
मोदी ने इस मौके पर डॉ भीमराव अंबेडकर को याद करते हुए कहा कि बाबा साहेब, असमानता दूर करने का बहुत बड़ा माध्यम शहरी विकास को मानते थे। बेहतर जीवन की आकांक्षा में गांवों से बहुत से लोग शहरों की तरफ आते हैं। हम जानते हैं कि उन्हें रोजगार तो मिल जाता है लेकिन उनका जीवन स्तर गांवों से भी मुश्किल स्थिति में रहता है।
हर रोज 70 प्रतिशत वेस्ट प्रोसेस कर रहे हैं, इसे 100 प्रतिशत तक पहुंचाना है। मोदी ने कहा कि आज भारत हर दिन करीब एक लाख टन वेस्ट प्रोसेस कर रहा है। 2014 में जब देश ने अभियान शुरू किया था तब देश में हर दिन पैदा होने वाले वेस्ट का 20 प्रतिशत से भी कम प्रोसेस होता था। आज हम करीब 70 प्रतिशत डेली वेस्ट प्रोसेस कर रहे हैं। अब हमें इसे 100 प्रतिशत तक लेकर जाना है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें यह याद रखना है कि स्वच्छता, एक दिन का, एक पखवाड़े का, एक साल का या कुछ लोगों का ही काम है, ऐसा नहीं है। स्वच्छता हर किसी का, हर दिन, हर पखवाड़े, हर साल, पीढ़ी दर पीढ़ी चलने वाला महाअभियान है। स्वच्छता जीवनशैली है, स्वच्छता जीवन मंत्र है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि आज शहरी विकास से जुड़े इस कार्यक्रम में, मैं किसी भी शहर के सबसे अहम साथियों में से एक की चर्चा अवश्य करना चाहता हूं। ये साथी हैं हमारे रेहड़ी-पटरी वाले, ठेला चलाने वाले- स्ट्रीट वेंडर्स। इन लोगों के लिए पीएम स्वनिधि योजना, आशा की एक नई किरण बनकर आई है।
सरकार के मुताबिक स्वच्छ भारत मिशन और अटल मिशन को सभी शहरों को कचरा मुक्त बनाने और जल संरक्षण के लक्ष्य को हासिल करने के लिए तैयार किया गया है। अटल मिशन के दूसरे चरण का लक्ष्य करीब 2.64 करोड़ सीवर कनेक्शन और करीब 2.68 करोड़ नल कनेक्शन देना है। साथ ही 500 अमृत शहरों में सीवरेज और सेप्टेज को शत प्रतिशत कवरेज करते हुए करीब 4,700 शहरी स्थानीय निकायों में सभी घरों में पीने के पानी की सप्लाई करना है। इससे शहरी क्षेत्रों में 10.5 करोड़ से ज्यादा लोगों को फायदा होगा।
इस मौके पर हरदीप पुरी ने स्वच्छ भारत मिशन का श्रेय पीएम नरेंद्र मोदी को देते हुए कहा कि उन्होंने इसे जनांदोलन में तब्दील कर दिया था। इसीलिए इतनी बड़ी कामयाबी मिली है। हरदीप पुरी ने कहा, ‘स्वच्छ भारत मिशन लाखों टॉयलेट्स बनाने और वेस्ट प्रॉसेसिंग को 70 फीसदी तक लाने की वजह से कामयाब नहीं हुआ है। यह इसलिए हुआ क्योंकि पीएम नरेंद्र मोदी ने इस प्रोजेक्ट को जनांदोलन का स्वरूप दे दिया।’
पीएमओ ने कहा है कि ये दोनों फ्लैगशिप योजनाएं देश के विकास के लिए बेहद अहम हैं। खासतौर पर तेजी से हो रहे शहरीकरण के चलते इनकी अहमियत बढ़ गई है। केंद्र सरकार ने सस्टेनेबल डिवेलपमेंट गोल्स 2030 तय किए हैं। इन्हें हासिल करने में इन दो स्कीमों की अहम भूमिका होगी।