संयुक्त राष्ट्र महासभा में इमरान ने अलापा कश्मीर का राग

September 25, 2021

न्यूयॉर्क, 25 सितंबर। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शनिवार तड़के संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित किया। जो तय माना जा रहा था, वही हुआ। इमरान ने कश्मीर और अफगानिस्तान पर ही भाषण का फोकस रखा। उन्होंने आरोप लगाया कि कश्मीर में एकतरफा कदम उठाकर भारत ने जबरिया कब्जा किया है। इमरान के इस बयान का भारत ने इसका करारा जवाब दिया है। संयुक्त राष्ट्र में भारतीय डिप्लोमेट स्नेहा दुबे ने कहा है कि पूरा जम्मू-कश्मीर और लद्दाख हमेशा से भारत के अभिन्न हिस्से हैं और रहेंगे। इनमें पाकिस्तान के कब्जे वाले हिस्से भी शामिल हैं। पाकिस्तान को इन्हें तुरंत छोड़ देना चाहिए। दुबे ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देश जानते हैं कि पाकिस्तान का इतिहास आतंकियों को पालने और उनकी मदद करने का रहा है, यह पाक की नीति में शामिल है। ये पहली बार नहीं है जब पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र के मंच का इस्तेमाल भारत के खिलाफ झूठ फैलाने और दुनिया का ध्यान भटकाने के लिए किया है, जबकि पाकिस्तान में आतंकी खुलेआम घूमते हैं। खान ने कहा- मनी लॉन्ड्रिंग से विकासशील और गरीब देशों को बेहद नुकसान होता है। अमीर देशों को इकोनॉमिक इमीग्रेंट्स को पनाह नहीं देनी चाहिए। ये विकासशील और गरीब देशों के साथ नाइंसाफी है। इसको रोकने के लिए सख्त कदम उठाए जाने चाहिए। खान ने कहा, अमेरिका में 9/11 हमलों के बाद दुनियाभर के दक्षिण पंथियों (राइट विंग) ने मुसलमानों पर हमले शुरू कर दिए। भारत में इसका सबसे ज्यादा असर है। वहां आर एस एस और भाजपा मुस्लिमों को निशाना बना रहे हैं। मुस्लिमों के साथ भेदभाव किया जा रहा है। कश्मीर में एकतरफा कदम उठाकर भारत ने जबरिया कब्जा किया है। मीडिया और इंटरनेट पर पाबंदी है। डेमोग्राफिक स्ट्रक्चर चेंज किया जा रहा है। मेजॉरिटी को माइनोरिटी में बदला जा रहा है। ये दुर्भाग्य है कि दुनिया सिलेक्टिव रिएक्शन देती है। यह दोहरे मापदंड हैं। सैयद अली शाह गिलानी के परिजनों के साथ अन्याय हुआ। मैं इस असेंबली से मांग करता हूं कि गिलानी के परिवार को उनका अंतिम संस्कार इस्लामी तरीके से करने की मंजूरी दी जाए। इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में कश्मीर के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी का भी जिक्र किया। इमरान ने आगे कहा- हम भारत से अमन चाहते हैं, लेकिन भाजपा वहां दमन कर रही है। अब गेंद भारत के पाले में है। भारत को कश्मीर में उठाए गए कदमों को वापस लेना होगा। कश्मीर में बर्बरता और डेमोग्राफिक चेंज बंद करना होगा। भारत सैन्य ताकत बढ़ा रहा है। इससे इस क्षेत्र का सैन्य संतुलन बिगड़ रहा है। दोनों देशों के पास न्यूक्लियर हथियार हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने अफगानिस्तान के हालात पर कहा- वहां बिगड़े हालात के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है, लेकिन इसकी सबसे बड़ी कीमत हमने चुकाई है। 80 हजार लोग मारे गए, 120 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ। हमने अमेरिका के लिए जंग लड़ी। 1983 में प्रेसिडेंट रोनाल्ड रीगन ने मुजाहिदीन को हीरो बताया था। जब सोवियत सेनाएं वहां से चली गईं तो अमेरिका ने अफगानिस्तान को अकेला छोड़ दिया। अमेरिका पर बरसते हुए इमरान ने कहा- हम पर प्रतिबंध लगाए गए। बाद में यही मुजाहिदीन, जिन्हें हमने ट्रेंड किया था, वो हमारे खिलाफ ही खड़े हो गए। हम पर हमले करने लगे। हमसे कहा जाता है कि आप तालिबान की मदद करते हैं। आज भी 30 लाख पश्तून पाकिस्तान में रहते हैं। उनकी तालिबान से सहानूभूति है। अमेरिका ने पाकिस्तान में 480 ड्रोन हमले किए। इससे बहुत नुकसान हुआ। जो लोग मारे गए वो अमेरिका के बजाए पाकिस्तान से बदला लेते हैं। हमें अपनी राजधानी को किले में तब्दील करना पड़ा।