कोरोना: अमेरिका में 8 लाख से ज्यादा मौतें

September 18, 2021

वॉशिंगटन, 18 सितंबर। अमेरिका में कोरोना महामारी से अब तक 8 लाख 60 हजार मौतें हो चुकी है। फिर भी 9 सितंबर को राष्ट्रपति बाइडेन द्वारा वैक्सीन लगवाने के लिए जारी आदेश का रिपब्लिकन पार्टी के वरिष्ठ नेता विरोध कर रहे हैं। मिसीसिपी के गवर्नर टेट रीव्स ने ट्वीट किया है, यह अब भी अमेरिका है। हम अत्याचारियों से आजादी में विश्वास करते हैं। साउथ केरोलिना के गवर्नर हेनरी मेकमास्टर भी विरोध करने वालों में शामिल हैं। कुछ रिपब्लिकन सांसदों ने चेतावनी दी है कि वे वैक्सीन आदेश के खिलाफ विधेयक पेश कर सकते हैं। अब तक 12 वर्ष से अधिक आयु के 63 प्रतिशत अमेरिकियों को वैक्सीन की दो डोज लगी हैं। इसके मुकाबले फ्रांस में 76 प्रतिशत, डेनमार्क में 85 प्रतिशत, कैनेडा में 69 प्रतिशत और ब्रिटेन में 65 प्रतिशत लोगों को दोनों डोज लग चुकी हैं। वैक्सीन को लेकर कई देशों में हिचक है। अमेरिकन यूनिवर्सिटी जॉन्स हॉपकिंस के अगस्त में 50 देशों के सर्वे में पाया गया कि वैक्सीन ना लगवाने वाले आधे से ज्यादा लोगों ने कहा कि वे वैक्सीन नहीं लगवाएंगे। बाइडेन ने वैक्सीन लगवाने या नियमित टेस्ट कराने का आदेश जारी किया है। यह आदेश 100 से अधिक कर्मचारियों की कंपनी और केंद्रीय कर्मचारियों पर लागू होगा। आलोचकों ने चेतावनी देते हुए कहा हैं कि वैक्सीन की जरूरत के आदेशों का उल्टा असर पड़ेगा। 70 लाख कामगारों ने कहा है कि वे वैक्सीन नहीं लगवाएंगे। ह्यूस्टन में एक अस्पताल के 150 कामगारों को वैक्सीनेशन आदेश के कारण निकाल दिया गया या उन्होंने इस्तीफा दे दिया है। न्यूयॉर्क के पास लोविले शहर में कई कर्मचारियों के इस्तीफा देने के कारण मैटर्निटी सेवाएं बंद हैं। हालांकि, बाइडेन के आदेश के बाद वैक्सीनेशन बढ़ा है। न्यूयॉर्क में हेल्थ वर्करों के बीच वैक्सीन की दर 75 से 80 प्रतिशत हो गई है। गोल्डमैन सॉक्स का अनुमान है, वैक्सीन जरूरी होने के बाद 30 लाख लोग काम पर लौटने के लिए प्रोत्साहित होंगे। अमेरिका में संक्रमण की नई लहर से अस्पतालों पर बोझ बढ़ा है। अगस्त में वैक्सीन ना लगवाने वाले लोगों के इलाज पर 27 हजार करोड़ रुपए (प्रति मरीज 14 लाख रु.) खर्च हुए हैं।