वैक्सीन विवाद को लेकर ब्रिटेन को भारत का करारा जवाब

October 2, 2021

नई दिल्ली, 2 अक्टूबर। ब्रिटेन द्वारा भारतीय वैक्सीन को मान्यता न दिए जाने के विवाद को लेकर भारत सरकार ने कड़ा रुख अपनाया है। अब भारत आने वाले ब्रिटिश नागरिकों को भी अनिवार्यतः 10 दिन का क्वारंटाइन करना होगा। यह कदम ब्रिटिश सरकार द्वारा भारतीय वैक्सीन को मान्यता न देने तथा भारतीय यात्रियों के साथ अनिवार्य क्वारंटाइन जैसे प्रतिबंधों के चलते उठाया गया है। इससे पहले भारत ने ब्रिटेन को चेतावनी दी थी कि यदि भारतीय वैक्सीन को मान्यता नहीं दी गई और भारतीय यात्रियों के साथ लगाए गए प्रतिबंधों में ढील नहीं दी गई तो भारत भी ब्रिटिश यात्रियों के प्रति कड़ा रुख अपना सकता है। इस पर ब्रिटेन ने भारतीय वैक्सीन को मान्यता वाली सूची में शामिल तो कर लिया था लेकिन भारतीय यात्रियों को कोई राहत नहीं दी थी। जिसके जवाब में भारत ने यह कदम उठाया है।
भारतीय सरकार ने घोषणा करते हुए शुक्रवार को बताया कि 4 अक्टूबर से ब्रिटेन से भारत आने वाले सभी यात्रियों को भारत में 10 दिन के लिए क्वारंटीन किया जाएगा। इसके अलावा ब्रिटेन से आने वाले सभी यात्रियों की एयरपोर्ट पर कोरोना जांच के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट भी किए जाएंगे। इसके अलावा ब्रिटिश नागरिकों को भारत में आने के 8 दिनों के बाद दोबारा आरटी-पीसीआर कराना होगा।
गौरतलब है कि कोविड-19 वैक्सीन कोविशील्ड का निर्माण ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने एस्ट्रेजेनेका के साथ मिलकर किया है। इस वैक्सीन का बड़े तादाद में उत्पादन भारत में सीरम इंस्टिट्यूट द्वारा किया जा रहा है। कोरोना के खिलाफ इस जंग को मजबूती के लिए भारत, ब्रिटेन समेत दुनिया के कई दशों में इस वैक्सीन का प्रयोग किया जा रहा है। इसके प्रयोग के बावजूद ब्रिटेन ने भारत में उत्पादित हो रही इस वैक्सीन को अपने देश में मान्यता देने से इन्कार कर दिया है।
ब्रिटेन ने ऐलान किया है कि 4 अक्टूबर के बाद वहां उन लोगों को ही प्रवेश दिया जाएगा जिन्होंने मॉडेर्ना, ऑक्सफोर्ड एस्ट्रेजेनेका या फाइजर बायोनटेक की कोविड-19 वैक्सीन की डोज लगा रखी हो। चौंकाने वाली बात यह है कि ऑक्सफोर्ड एस्ट्रेजेनेका की ओर से निर्मित कोविशील्ड वैक्सीन को ब्रिटेन ने मान्यता देने से इन्कार कर दिया है।
ब्रिटेन ने साफ कह दिया है कि इन तीन वैक्सीन के अलावा अगर कोई व्यक्ति कोई वैक्सीन लेकर ब्रिटेन पहुंचता है तो उसे एयरपोर्ट पर आरटी-पीसीआर टेस्ट कराना होगा। इसके अलावा यात्री को अपने 72 घंटे पहले की आरटी-पीसीआर रिपोर्ट निगेटिव दिखानी होगी, और 10 दिनों के लिए क्वारंटीन रहना होगा।