कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों को दी जा सकती है बूस्टर डोज़

October 14, 2021

न्यूयॉर्क, 14 अक्टूबर। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले व्यक्तियों को कोविड -19 टीके का एक अतिरिक्त शॉट लेना चाहिए ताकि कोविड संक्रमण से प्रभावी बचाव हो सके। यह सिफारिश टीकाकरण पर विशेषज्ञों के रणनीतिक सलाहकार समूह की चार दिवसीय बैठक के बाद की गई है। डब्ल्यूएचओ ने एक बयान में कहा कि दिसंबर में एक अंतिम रिपोर्ट जारी की जाएगी।
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के विशेषज्ञों के एक सलाहकार समूह ने कहा कि मध्यम और गंभीर रूप से प्रतिरक्षा-समझौता वाले व्यक्तियों को सभी डब्ल्यूएचओ-अनुमोदित टीकों की एक अतिरिक्त खुराक की पेशकश की जानी चाहिए। डब्ल्यूएचओ ने बताया कि 60 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोग जिन्हें सिनोफार्म और सिनोवैक टीके लगाए गए हैं, उन्हें तीसरी खुराक भी मिलनी चाहिए। हालांकि आपूर्ति और पहुंच के आधार पर अन्य टीकों के उपयोग पर भी विचार किया जा सकता है। यह रणनीति टीकाकरण के लिए 3-चरणीय दृष्टिकोण अपनाती है। वृद्ध लोगों, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और सभी उम्र के उच्च जोखिम वाले समूहों को प्राथमिकता दी जाती है, उसके बाद वयस्कों और फिर किशोरों को। दरअसल विश्व स्वास्थ्य संगठन के सामने यह चुनौती है कि पूरे विश्व में एक समान टीकाकरण ना होने के कारण कोविड-19 का खतरा बना हुआ है। ऐसे में कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों, वृद्ध, बीमार आदि को बूस्टर डोज लगाने की सिफारिश की जा रही है, ताकि कोविड-19 के प्रति प्रतिरक्षित हो चुकी आबादी को भविष्य में कोरोना से संबंधित किसी समस्या का सामना ना करना पड़े।