गोवा में सरकार बनाने के कांग्रेस के सपने के अमित शाह ने किया चूर

October 17, 2018

नई दिल्ली। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का ‘गेम प्लान’ के आगे कांग्रेस की गोवा में सरकार बनाने की योजनाओं को जबरदस्त झटका लगा है। गोवा के मुख्यमंत्री के बीमार होने और लगभग एक साल तक हॉस्पिटल में आने-जाने को कांग्रेस पार्टी अपने लिए एक मौके के तौर पर देख रही थी। 16 विधायकों के साथ गोवा सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर कांग्रेस ने राज्य में सरकार बनाने का शिगूफा भी छोड़ा, लेकिन इसके दो विधायकों के बीजेपी जॉइन करने की खबर ने कांग्रेस की उन उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। अब बीजेपी और कांग्रेस के पास 14-14 विधायक हैं। इसके अलावा 3-3 सीटों वाली महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी और गोवा फॉरवर्ड पार्टी और तीन निर्दलीय पर्रिक्कर सरकार का समर्थन कर रहे हैं। विधानसभा में एनसीपी का भी एक सदस्य है। खबरें हैं कि तीन कांग्रेस विधायक अभी बीजेपी के सम्पर्क में हैं, जो कभी भी अपनी पार्टी का दामन छोड़ सकते हैं।

दरअसल राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिक्कर का पिछला एक साल अपनी बीमारी की वजह से हॉस्पिटल में गुजरा। राज्य के सबसे बड़े नेता की असक्रियता को कांग्रेस अपने लिए मौके पर तौर पर देख रही थी। कांग्रेस की तैयारी थी कि बीजेपी और सरकार में नेतृत्वहीनता को मुद्दा बनाकर वह कुछ विधायकों को तोड़कर कांग्रेस में शामिल करा लेगी, जिससे राज्य सरकार अल्पमत में आ जाएगी और कांग्रेस के सरकार बनाने का मौका मिलेगा। लेकिन कांग्रेस की यह योजना बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के ‘गेम प्लान’ के सामने फीकी नजर आई। बीजेपी उल्टे कांग्रेस के दो विधायकों को तोड़कर बीजेपी में शामिल करा लिया। खबरें हैं कि तीन विधायक और बीजेपी के सम्पर्क में हैं। खबरें हैं कि पर्रिक्कर की बीमारी को देखते हुए पार्टी नेतृत्व अब दूसरे विकल्पों पर भी गौर कर रहा है। राज्य में बीजेपी का बहुमत संकट खत्म हो गया है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो पार्टी अब मंत्री विश्वजीत प्रताप सिंह राणे को सरकार की कमान सौंपने के बारे में विचार कर रही है। राणे 2010 से विधायक हैं। वह इस सरकार में स्वास्थ्य के साथ महिला और बाल विकास मंत्रालय का काम देख रहे थे। राणे के पिता प्रताप सिंह राणे कांग्रेस नेता और चार बार मुख्यमंत्री रहे हैं। खबरें हैं कि बीजेपी नेतृत्व ने सोमवार को राज्य की राजनीतिक परिस्थितियों पर चर्चा करने के लिए राणे को दिल्ली बुलाया था।